Hindi-Shayari Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines

Mirza Ghalib Shayari: Dosto आपका स्वागत है मरे वेबसाइट में इस Post में हम आपको 2 Lines Mirza Ghalib Shayari Provide कर रहे हैं । आप नीचे दिए गए Kisi भी Mirza Ghalib Shayari को चुन सकते हैं, और दुनिया को दिखा सकते हैं, कि आप किस चीज से बने हैं, आपको किस तरह का व्यक्तित्व मिला है। अपने Dosto को अपना Hindi Urdu Mirza Ghalib Shayari दिखाएं|

Mirza Ghalib 2 Lines Shayari In Hindi

Shayari Mirza Ghalib 2 Lines फीचर इस स्थिति में मददगार होंगे। इसलिए आज मैं Whatsapp के लिए अपना संग्रह के लिए साझा कर रहा हूं। नीचे दिए गए 2 Line Mirza Ghalib Shayari में से कोई भी Hindi Shayari चुनें और अपनी Social जगहो पर Set करें। मुझे उम्मीद है कि आप इस संग्रह को व्हाट्सएप के लिए सबसे अच्छा Bhaigiri Status In hindi पसंद करेंगे, Facebook और Twitter आदि जैसे Social Media पर इन Bhaigiri Status Shayari संदेशों को Share  करना न भूलें। आप लोग Comments में जरूर बताना की यह  Post पड़कर आपको कैसा लगा |

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines On Life

दोस्तों जहा Shayariyo का ज़िक्र जहा होता वहा सबसे पहले नाम महान Shayar Mirza Galib Ji का आता हैं. ग़ालिब शायरी का वह चमकता सितारा हैं जो आज भी आकाश के चमचमाते तारे की तरह चमक रहा।

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया।
वर्ना हम भी आदमी थे काम के।।

mirza galib shayari

Ishq Ne Galib Nikamma Kar Diya, Warna Ham Bhi Aadami The Kaam Ke..

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़।
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।।

Un Ke Dekhe Se Jo Aa Jati Hai Munh Pe Raunak, Wo samajhte Hai ki Bimaar Ka Hal Achchha hai..

🔘
काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’।
शर्म तुम को मगर नहीं आती।।

Kaba kis Muh Se Jaoge “Galib”, Sharm Tum Ko Magar Nahi Aati..

Dil-E-Nadan-Tujhe-Hua-Kya-Hain-Galib
Dil-E-Nadan Tujhe Hua Kya hai – Galib

🔘
दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है।
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।।

Dil-E-Nadan Tujhe Hua Kya hai? Akhir Is Dard ki Dawa Kya Hai.

🔘
इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’।
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे।।

Ishq Par Jor Nahi hai Ye Aatish “Galib”, ki Lagaaye Naa Lage Bujhaye Na Bujhe..

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना।
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।।

Eshrat-E-Katara Hai Dariya Me Fana Ho Jana, Dard Ka Had Se Guzarana hai Dawa Ho Jana..

🔘
दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई।
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई।।

Dil Se Teri Nigah Jigar Tak Utar Gayi, Dono Ko Ek Adaa Me Rajamand Kar Gayi.

🔘
दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ।
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ।।

Dard Minnat Kash-E-Dawa N Hua, Main N Achchha Hua Na Bura Hua.

🔘
आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक।
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।।

Aah Ko Chahaiye Ek Umar Asar Hote Tak, kon Jeeta Hai Tiri Zulfo Ke Sar Hone Tak..

🔘
क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां।
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन।।

Karz ki pite The May, Lekin samajhte The ki Ha,n, Rang Lavegi Hamari Faka-Masti Ek Din.

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का।
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले।।

Mohabbat Me Nahi Hai Farq Jeene Aur Marane Ka, Usi Ko Dekh Kar Jeete Hai Jis Kafir Pe Dam Nikale..

🔘
कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में।
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते।।

Kitna Khauf Hota Hai Shaam Ke Andhero Me, Punchh Un Parindo Se jinke Ghar Nahi Hote.

🔘
हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले।
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले।।

Hazaron Khwahishe Esi ki Har Khwahish Pe Dam Nikale, Bahut Nikale Mire Armaan Lekin Fir Bhi Kam Nikale..

🔘
हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे।
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और।।

Hai Aur Bhi Duniya Me Sukun-Var Bahut Achchhe, Kahate Hai ki “Galib” Ka hai Andaaz-E-Bayan Aur..

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता।
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता।।

Na Tha Kuchh To Khuda Tha, Kuchh N Hota To Khuda Hota, Duboya Mujh Ko Hone Ne N Hota Main To Kya Hota..

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए।
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।।

Dard Jab Dil Me Ho To Dawa kijiye, Dil Hi Jab Dard Ho To Kya kijiye?

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब।
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते।।

Hatho ki Lakiron Pe Mat Ja E “Galib”, Nasib Unke Bhi Hote Hai, jinke Hath Nahi Hote.

वाइज़!! तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिलाके देख। नहीं तो दो घूंट पी और मस्जिद को हिलता देख।।

Vaiz teri Duwaon Me Asar Ho To Masjid Ko Hilake Dekh, Nahi To Do Ghut pi Aur Masjid Hilata Dekh..

🔘
नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को।
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं।।

Nazar Lage N Kahi uska Dast-O-Baju Ko, Ye Log Kyun Mere Zakhme Jigar Dekhate Hai..

🔘
रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी।
तो किस उम्मीद पे कहिये के आरज़ू क्या है।।

Rahi N Takat-E-Guftaar Aur Agar Ho Bhi, To kis Ummid Pe Kahiye Ke Aarzoo Kya Hai..

🔘
पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार।
ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है।।

Piyun Sharab Agar Khum Bhi Dekh Lu Do Char, Ye Shisha-O-Kahad-O-Kuza-O-Subu Kya hai

🔘
रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल।
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।।

Rango Me Daudate Firane Ke Ham Nahi Kayal, Jab Ankh Hi Se N Tapaka To Fir Lahu Kya Hai..

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन।
हमारी ज़ेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है।।

Chipak Raha Hai Badan Par Lahu Se Pairahan, Hamari Zeb Ko Ab Hajat-E-Rafu Kya Hai ..

🔘
न शोले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा।
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंदख़ू क्या है।।

Na Shole Me Ye Larishma N Barq Me Ye Adaa, Koi Batao ki Wo Shokhe-Tandukhu Kya hai..

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है।
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता।।

Huyi Muddat ki “Galib” Mar Gaya Par Yaad Aata Hai, Wo Har Ek Baat Pe Kahata ki Yun Hota To Kya Hota..

🔘
तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना।
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता।।

Tere Wade Par Jiye Ham, To Yah Jaan, Jhuth Jana, ki Khushi Se Mar N Jate, Agar Etbaar Hota..

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन।
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़्याल अच्छा है।।

Hamko Malum Hai Zannat ki HAQIQAT Lekin, Dil Ke Khush Rakhane Ke “Galib” Ye Khyaal Achchha hai..

🔘
रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’।
कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था।।

Rekhte Ke Tumhi Ustaad Nahi Ho “Galib”, Kahate Hai Agale Zamaane Me Koi mir Bhi Tha

🔘
कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को।
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता।।

Koi Mere Dil Se Puchhe Tere tir-E-nim-Kash Ko, Ye Khalish Kaha Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota..

बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना।
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना।।

hai Aur Bhi Duniya Mein Sukhan-War Bahot Achhe,
Kehte hai ki Ghalib Ka Hai Andaaz-e-Bayan Aur.

हैं और भी दुनिया में सुखन-वर बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयाँ और।

Unke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Chehre Par Raunaq,
Woh Samajhte hai Ke bimaar Ka Haal Achcha Hai.

उनके देखने से जो आ जाती है चेहरे पर रौनक,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।

Be-Khudi Be-Sabab Nahin Ghalib,
Kuchh Toh Hai Jis ki Parda-Daari Hai.

galib

बे-खुदी बे-सबब नहीं ग़ालिब,
कुछ तो है जिस की परदा-दारी है।

Yeh Na Thi Humari kismat Ke Visaal-e-Yaar Hota,
Agar Aur Jeete Rehte, Yehi Intezaar Hota.

ये न थी हमारी किस्मत के विसाल-ए-यार होता,
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता।

Qaasid Ke Aate Aate Khat Ek Aur Likh Rakkhun,
Main Jaanta Hoon Jo Woh Likhenge Jawaab Mein.

कासिद के आते आते ख़त एक और लिख रखूँ,
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में।

Tum Na Aaoge Toh Marne ki Hai Sau Tadbirein,
Maut Kuchh Tum Toh Nahi Hai ki Bula Bhi Na Saku.

तुम न आओगे तो मरने कि है सौ ताबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं है कि बुला भी न सकूं।

Rone Se Aur Ishq Mein Be-Baak Ho Gaye,
Dhoye Gaye Hum Itne Ke Bas Paak Ho Gaye.

रोने से और इश्क में बे-बाक हो गए,
धोये गए हम इतने कि बस पाक हो गए।

Imaan Mujhe Roke Hai Jo Khiche Hai Mujhe Kufr,
Kaaba Mere pichhe Hai Kaaisa Mere Aage.

ईमान मुझे रोके है जो खीचे है मुझे कुफ्र,
काबा मेरे पीछे है कायसा मेरे आगे।

Bana Kar Faqeeron Ka Hum Bhes Ghalib,
Tamasha Ehl-e-Karam Dekhte hai.

2 Lines Mirza Ghalib Shayari Hindi

बना कर फकीरों का हम भेष ग़ालिब,
तमाशा एहल-ए-करम देखते हैं।

Aaina Dekh Apna Sa Munh Le Ke Reh Gaye,
Sahab Ko Dil Na Dene Pe kitna Guroor Tha.

आईना देख के अपना सा मुँह लेके रह गए,
साहब को दिल न देने पे कितना गुरूर था।

pine De Sharab Masjid Mein Baithkar,
Woh Jagah Bata Jahan Khuda Nahin.

पीने दे शराब मस्जिद में बैठ कर,
या वो जगह बता जहाँ ख़ुदा नहीं।

Bas ki Dushwaar Hai Har Kaam Ka Assan Hona,
Aadmi Ko Bhi Mayassar Nahin Insaan Hona.

बस की दुश्वार है हर काम का आसान होना,
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसान होना।

🔘
यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं।
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो।।

Yahi Hai Aazamana To Satana kisko Kahate Hai, Adu Ke Ho Liye Jab Tum To Mera Inthaan Kyu Ho..

तुम न आए तो क्या सहर न हुई
हाँ मगर चैन से बसर न हुई।

Tum na aae to kya sahar na huee
haan magar chain se basar na huee.

मेरा नाला सुना ज़माने ने
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई।।

mera naala suna zamaane ne
ek tum ho jise khabar na huee..

मत पूँछ की क्या हाल हैं मेरा तेरे पीछे
तू देख की क्या रंग हैं तेरा मेरे आगे …

mat poonchh ki kya haal hain mera tere pichhe,
too dekh ki kya rang hain tera mere aage.

ऐ बुरे वक़्त ज़रा अदब से पेश आ,
क्यूंकि वक़्त नहीं लगता वक़्त बदलने में …

ai bure vaqt zara adab se pesh aa ,
kyoonki vaqt nahin lagata vaqt badalane mein …

ज़िन्दगी उसकी जिस की मौत पे ज़माना अफ़सोस करे ग़ालिब, यूँ तो हर शक्श आता हैं इस दुनिया में मरने कि लिए.

zindagee usaki jis ki maut pe zamaana afasos kare gaalib ,
yoon to har shaksh aata hain is duniya mein marane ki lie …

Mirza Ghalib Shayari 2 Lines

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर,
या वह जगह बता जहाँ खुदा नहीं.

zaahid sharaab pine de masjid mein baith kar,
ya vah jagah bata jahaan khuda nahin ..

था ज़िन्दगी में मर्ग का खत्का लाग हुआ,
उड़ने से पेश -तर भी मेरा रंग ज़र्द था.

tha zindagee mein marg ka khatka laag hua,
udane se pesh -tar bhi mera rang zard tha .

इस सादगी पर कौन ना मर जाये
लड़ते है और हाथ में तलवार भी नहीं.

is saadagee par kaun na mar jaaye
ladate hai aur haath mein talavaar bhi nahi.

उनके देखे जो आ जाती है रौनक
वो समझते है कि बीमार का हाल अच्छा है.

unake dekhe jo aa jaati hai raunak
vo samajhate hai ki bimaar ka haal achchha hai.

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख, जुस्तजू क्या है ?

jala hai jism jahaan dil bhi jal gaya hoga,
kuredate ho jo ab raakh, justajoo kya hai ?

हथून कीय लकीरून पय मैट जा ऐ ग़ालिब,
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते !

hathoon kiy lakiroon pay mait ja ai gaalib,
nasib unake bhi hote hain jinake haath nahin hote !

उनकी देखंय सी जो आ जाती है मुंह पर रौनक,
वह समझती हैं केह बीमार का हाल अच्छा है !

unaki dekhany si jo aa jaati hai munh par raunak,
vah samajhati hain keh bimaar ka haal achchha hai !

दिल सी तेरी निगाह जिगर तक उतर गई,
2नो को एक अड्डा में रज़्ज़ा मांड क्र गए !

dil si teri nigaah jigar tak utar gaee,
2no ko ek adda mein razza maand kr gae.

कितना खौफ होता है शाम के अंधेरूँ में,
पूँछ उन परिंदों से जिन के घर्र नहीं होते …

kitana khauph hota hai shaam ke andheroon mein,
poonchh un parindon se jin ke gharr nahin hote …

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मीरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले.

hazaaron khvaahishen aisi ke har khvaahish pe dam nikale
bahut nikale mire aramaan lekin phir bhi kam nikale.

rekhte ke tumhen ustaad nahin ho gaalib,
kahte hain agale zamaane mein koi mir bhi tha.

रेख्ते के तुम्हें उस्ताद नहीं हो ग़ालिब,
कहते हैं अगले ज़माने में कोई मीर भी था !
phir usi bevapha pe marte hain,
phir vahi zindagee kamari hai !

फिर उसी बेवफा पे मरते हैं,
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है !

2 Lines Shayari

उस पर उतरने की उम्मीद बोहत कम है,
कश्ती भी पुरानी है और तूफ़ान को भी आना है !

us par utarane ki ummid bohat kam hai,
kashti bhi puraani hai aur toofaan ko bhi aana hai !

यह इश्क़ नहीं आसान बस इतना समझ लीजिये,
एक आग का दरया है और डूब कर जाना है !!

yah ishq nahin aasaan bas itana samajh leejiye,
ek aag ka daraya hai aur doob kar jaana hai!!

कोई उम्मीद बर नहीं आती,
कोई सूरत नज़र नहीं आती !

koi ummid bar nahin aati,
koi soorat nazar nahin aati !

मौत का एक दिन मु’अय्यन है,
निद क्यों रात भर नही आती ?

maut ka ek din mu’ayyan hai,
nid kyon raat bhar nahi aati ?

मासूम मोहब्बत का बस इतना फ़साना है
कागज़ की हवेली है बारिश का ज़माना है

maasoom mohabbat ka bas itana fasaana hai,
kaagaz ki havelee hai baarish ka zamaana hai.

आगे आती थी हाल-इ-दिल पे हंसी
अब किसी बात पर नहीं आती

aage aati thi haal-i-dil pe hansi
ab kisi baat par nahin aati
क्यों न चीखूँ की याद करते हैं
मेरी आवाज़ गर नहीं आती.

kyon na chikhoon ki yaad karate hain
meri aavaaz gar nahin aati.

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन
हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और
तुम सलामत रहो हजार बरस,
हर बरस के हों दिन पचास हजार !

qarz ki pite the may lekin samajhate the ki haan
rang laavegee kamari faaqa-masti ek din

hain aur bhi duniya mein sukhan-var bahut achchhe
kahte hain ki ‘gaalib’ ka hai andaaz-e-bayaan aur

tum salaamat raho hajaar baras,
har baras ke hon din pachaas hajaar !

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन,
बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले !

nikalana khuld se aadam ka sunate aae hain lekin,
bahut be-aabaroo ho kar tire kooche se ham nikale !

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना,
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना !

isharat-e-qatara hai dariya mein fana ho jaana,
dard ka had se guzarana hai dava ho jaana.

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है !

un ke dekhe se jo aa jaati hai munh par raunaq,
vo samajhate hain ki bimaar ka haal achchha hai !

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक !

aah ko chaahie ik umr asar hote tak,
kaun jeeta hai tiri zulf ke sar hote tak!
हम वहाँ हैं जहां से हमको भी
कुछ हमारी खबर नहीं आती

ham vahaan hain jahaan se hamako bhi
kuchh kamari khabar nahin aati

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले !

hazaaron khvaahishen aisi ki har khvaahish pe dam nikale,
bahut nikale mire aramaan lekin phir bhi kam nikale !

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले !

mohabbat mein nahin hai farq jeene aur marane ka,
usi ko dekh kar jeete hain jis kaafir pe dam nikale !

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता,
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता !

na tha kuchh to khuda tha kuchh na hota to khuda hota,
duboya mujh ko hone ne na hota main to kya hota !

close