Hindi-Shayari Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi

Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi

Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi :-

Dosto आपका स्वागत है मरे वेबसाइट में इस Post में हम आपको Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari
In Hindi Provide कर रहे हैं । नीचे दिए गए Kisi भी Shifuji Shaurya Shayari को चुन सकते हैं, और दुनिया को दिखा सकते हैं, कि आप किस चीज से बने हैं, आपको किस तरह का व्यक्तित्व मिला है।

Shifuji Shaurya Status In Hindi फीचर इस स्थिति में मददगार होंगे। इसलिए आज मैं Whatsapp के लिए अपना संग्रह के लिए साझा कर रहा हूं। नीचे दिए गए Shifuji Shayari में से कोई भी Shayari Status चुनें और अपनी Social जगहो पर Set करें। मुझे उम्मीद है कि आप इस संग्रह को व्हाट्सएप के लिए सबसे अच्छा Shifuji Shaurya Shayari Status पसंद करेंगे, Facebook और Twitter आदि जैसे Social Media पर इन शिफूजी शौर्य भरद्वाज शायरी संदेशों को Share करना न भूलें। आप लोग Comments में जरूर बताना की यह Post पड़कर आपको कैसा लगा |

Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi :-

मौत की मंडियो  सब ने बढ़-बढ़ बोलिया दी है
मौत की मंडियो  सब ने बढ़-बढ़ बोलिया दी है|
जब कभी मांगी देश ने ने  कुर्बानी
माँओ ने भर-भर कर अपनी झोलिया दी है||

Maut ki Mandiyo Sabh ne Badh-Badh Boliya di Hai
Maut ki Mandiyo Sabh ne Badh-Badh Boliya di Hai,
Jab Kabhi Mangi Desh Kurbaani
Maao  ne Bhar-Bhar kar Apni Jholiya di Hai.

आप मेरे से सब कुछ छीन सकते है,
मगर मेरी परवरिश और हिन्दुस्तानी होने का अभिमान नहीं||

Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari

Aap Mere se Sab Kuch Chin Sakte Hai,
Magar Meri Parvarish aur HINDUSTANI Hone ka Abhimaan Nahi.

वतन वालो वतन ना बेच देना ये धरती ये चमन ना  बेच देना,
शहीदों में जान दी है वतन के वास्ते शहीदों के कफ़न ना बेच देना।

Watan Walo Watan na Bech Dena ye Dharti ye Chaman na Bech Dena,
Shahido Ne Jaan di Hai Watan ke Waaste Shahido  ke Kafan na Bech Dena.

सोचिये मेरे वतन की दो औलादे है
एक जो, इससे अपना मानने से इंकार करते है|
और दुसरे वो जो इससे हर एक ज़र्रे के लिए अपनी मौत भी स्वीकार करते है||

Soochiye Mere Watan ki do Auladen Hai
Ek jo, Isse Apna Maanne se Inkar Karte Hai,
Aur Doosre Wo, Jo Isske Har Ek Zarre ke Liye Apni Maut bhi Sweekar Karte Hai.

Best Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari :-

धरम में मज़हब में बाट दिया यारो
माँ के आँचल को टुकड़ो में कर दिया धर्मो को
कुछ ने चुनरी को|
हरा कर दिया, कुछ ने भगवा, कुछ ने लाल, कुछ ने सफ़ेद
ये चुनर है यार माँ के आँचल को रंगो मत्त
क्यों की आँचल बिना रंग के भी माँ का ही आँचल होता है||

Dharam me Mazhab me Baat Diya Yaaro
Maa ke Aanchal ko Tukdo me Kar Diya Dharamo Ke
Kuch ne Chunari Ko,
Hara Kar Diya, Kuch ne Bhagwa, Kuch ne Laal, Kuch ne Safed
Ye Chunar he Yaar Maa ke Aanchal ko Rango Matt
Kyunki Aanchal Bina Rang ke bhi Maa ka hi Aanchal Hota Hai.

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है ज़ोर कितना बाजु-ए-कातिल में है।।
shifuji Maurya

sarapharoshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai,
dekhana hai zor kitana baaju-e-kaatil mein hai..
shifuji maury

राख का हर एक कण,
मेरी गर्मी से गतिमान है।
मैं एक ऐसा पागल हूं,
जो जेल में भी आजाद है।।

raakh ka har ek kan,
meri garmee se gatimaan hai.
main ek aisa paagal hoon,
jo jel mein bhi aajaad hai..

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है ज़ोर कितना बाजु-ए-कातिल में है।।

sarapharoshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai,
dekhana hai zor kitana baaju-e-kaatil mein hai..

जो भी व्यक्ति विकास के लिए खड़ा है,
उसे हर एक रुढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी,
उसमें अविश्वास करना होगा, तथा उसे चुनौती देनी होगी।।

jo bhi vyakti vikaas ke lie khada hai,
use har ek rudhivaadi chij ki aalochana karani hogi,
usamen avishvaas karana hoga, tatha use chunauti deni hogi..

Shifuji Shaurya Bhardwaj Status

इस कदर वाकिफ है मेरी कलम मेरे जज्बातों से अगर में इश्क लिखना भी चाहूँ तो इंकलाब लिखा जाता है

is kadar vaakiph hai meri kalam mere jajbaaton se agar mein ishk likhana bhi chaahoon to inkalaab likha jaata hai.

वो इश्क का आलम भी गजब रहा होगा …
राझाँ” जिसमे भगतसिंह” और
“हीर” जिसमे “आज़ादी” रही होगी…

vo ishk ka aalam bhi gajab raha hoga …
raajhaan” jisame bhagatasinh” aur
“hir” jisame “aazaadi” rahi hogi…

सीने में भगतसिंह ,,माथे पर हिन्दुस्तान रखते है |
दुश्मनो के लिए बगल में कब्रिस्तान रखते है |

sine mein bhagatasinh ,,maathe par hindustaan rakhate hai |
dushmano ke lie bagal mein kabristaan rakhate hai |

नौजवान जब उठते हैं तो निजाम बदल जाते हैं | भगतसिंह तो आज भी पैदा होते हैं बस नाम बदल जाते हैं |

naujavaan jab uthate hain to nijaam badal jaate hain | bhagatasinh to aaj bhi paida hote hain bas naam badal jaate hain |

उन जज्बातो की कद्र किया करते है जिनमे गाँधी नही भगतसिंह हुआ करता है |

un jajbaato ki kadr kiya karate hai jiname gaandhi nahi bhagatasinh hua karata hai |

इश्क़ करना हमारा पैदायशी हक़ है ,
तो क्यों न वतन ए मिट्टी को अपना महबूब बना लें..

ishq karana hamaara paidaayashi haq hai ,
to kyon na vatan e mitti ko apana mahaboob bana len..

Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi and english :-

इतिहास में गूँजता एक नाम हैं भगतसिंह
शेर की दहाड़ सा जश था जिसमे वे थे भगतसिंह
छोटी सी उम्र में देश के लिए शहीद हुए जवान थे भगतसिंह
आज भी जो “रोंगटे खड़े करदे ऐसे विचारो के धनि थे shifuji Maurya”

itihaas mein goonjata ek naam hain bhagatasinh
sher ki dahaad sa jash tha jisame ve the bhagatasinh
chhoti si umr mein desh ke lie shahid hue javaan the bhagatasinh
aaj bhi jo “rongate khade karade aise vichaaro ke dhani the shifuji maury”

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं।
तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान हैं

aan desh ki shaan desh ki, desh ki ham santaan hain.
tin rangon se ranga tiranga, apani ye pahachaan hain

ज़िन्दगी तो अपने दम पर जी जाती है,
दूसरों के कंधों पर तो सिर्फ जनाजे उठाए जाते हैं।
भगतसिंह आज़ादी के परवाने

zindagi to apane dam par ji jaati hai,
doosaron ke kandhon par to sirph janaaje uthae jaate hain.
bhagatasinh aazaadi ke paravaane

2 अक्टूबर होता तो राष्ट्रीय छुट्टी होती,
नेहरू का जन्मदिवस होता तो बाल दिवस मनाया जाता,
23 March की किसे पड़ी है!

2 aktoobar hota to raashtriy chhutti hoti,
neharoo ka janmadivas hota to baal divas manaaya jaata,
23 marchh ki kise padi hai!

उन जज्बातो की कद्र किया करते है
जिनमे गाँधी नही भगतसिंह हुआ करता है

un jajbaato ki kadr kiya karate hai
jiname gaandhi nahi bhagatasinh hua karata hai

Best Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi :-

अपने मन को समझाऊँ मैं कैसे ? मंगल गीत गाऊँ मै कैसे ?
भगतसिंह को फाँसी पर चढ़ा दिया जिनहोने, उनका नववर्ष मनाऊँ मै कैसे ?

apane man ko samajhaoon main kaise ? mangal git gaoon mai kaise ?
bhagatasinh ko phaansi par chadha diya jinahone, unaka navavarsh manaoon mai kaise ?

इस कदर वाकिफ है मेरी कलम मेरे जज्बातों से
अगर में इश्क लिखना भी चाहूँ तो इंकलाब लिखा जाता है !!
सैल्यूट ऑफ भगत

is kadar vaakiph hai meri kalam mere jajbaaton se
agar mein ishk likhana bhi chaahoon to inkalaab likha jaata hai !!
sailyoot oph bhagat

मुझे तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिंदा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरूं तो तिरंगा ही कफन चाहिए

mujhe tan chaahie, na dhan chaahie
bas aman se bhara yah vatan chaahie
jab tak jinda rahoon, is maatr-bhoomi ke lie
aur jab maroon to tiranga hi kaphan chaahie

ऐसे ही किसी बहादुर ने क्या खूब कहा है
हम बदले है तो निजाम बदल जाते है
सारे मंजर सारे आजम बदल जाते है
कोंन कहता हैं भगतसिंह फिर पैदा नहीं होते
पैदा तो होते हैं बस नाम बदल जाते है

aise hi kisi bahaadur ne kya khoob kaha hai
ham badale hai to nijaam badal jaate hai
saare manjar saare aajam badal jaate hai
konn kahata hain bhagatasinh phir paida nahin hote
paida to hote hain bas naam badal jaate hai

वो इश्क का आलम भी गजब रहा होगा …..!
राझाँ” जिसमे  भगतसिंह” और “हीर” जिसमे “आज़ादी” रही होगी……!!
जय_हिन्द

vo ishk ka aalam bhi gajab raha hoga …..!
raajhaan” jisame  bhagatasinh” aur “hir” jisame “aazaadi” rahi hogi……!!
jay_hind

Shifuji Shaurya Bhardwaj whatsapp status In Hindi

जनसंख्या व्रद्धि से पूरा भारत परेशान है और आरक्षण का दर्द केवल वो नौजवान ही समझ सकता है

janasankhya vraddhi se poora bhaarat pareshaan hai aur aarakshan ka dard keval vo naujavaan hi samajh sakata hai

भगतसिंह की पुण्यतिथि पर लाल रंग की होली हो,
जो भारत की जय ना बोले उसकी छाती में गोली हो।
भारत माता के वीर सपूत शहीद-ए-आज़म भगतसिंह, राज गुरु और सुखदेव के शहादत दिवस पर उन्हें नमन!!

राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है मैं एक ऐसा पागल हूं जो जेल में भी आज़ाद है।

raakh ka har ek kan meri garmee se gatimaan hai main ek aisa paagal hoon jo jel mein bhi aazaad hai.

ज़रूरी नहीं था की क्रांति में अभिशप्त संघर्ष शामिल हो, यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था।

zaroori nahin tha ki kraanti mein abhishapt sangharsh shaamil ho, yah bam aur pistaul ka panth nahin tha.

बम और पिस्तौल क्रांति नहीं लाते, क्रान्ति की तलवार विचारों के धार बढ़ाने वाले पत्थर पर रगड़ी जाती है।

bam aur pistaul kraanti nahin laate, kraanti ki talavaar vichaaron ke dhaar badhaane vaale patthar par ragadi jaati hai.

व्यक्तियो को कुचल कर, वे विचारों को नहीं मार सकते।

vyaktiyo ko kuchal kar, ve vichaaron ko nahin maar sakate.

निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम लक्षण हैं।

nishthur aalochana aur svatantr vichaar ye kraantikaari soch ke do aham lakshan hain.

मरते मरते शहीद राजगुरु लिख गए हम भी जी सकते थे,
चुप रहकर और हमे भी माँ बाप ने पाला था दुःख सहकर!”

marate marate shahid raajaguru likh gae ham bhi ji sakate the,
chup rahakar aur hame bhi maan baap ne paala tha duhkh sahakar!”

close